happy wishes

happy wishes,happy wish

Wednesday, 8 May 2019

राजीव गांधी का जिक्र कर मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, बोले- INS विराट को बना दिया था प्राइवेट टैक्सी:

राजीव गांधी का जिक्र कर मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, बोले- INS विराट को बना दिया था प्राइवेट टैक्सी:

दिल्ली के रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री नौसेना के पोत से छुट्टी मनाने जाते थे। उन्होंने कहा कि AAP सरकार नामपंथी है।
Image result for नरेंद्र मोदी
चुनावी मौसम में बीजेपी और कांग्रेस के बीच जुबानी जंग बेहद तीखी हो गई है। बुधवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली के दौरान पीएम मोदी ने राजीव गांधी का जिक्र कर कांग्रेस पर जबरदस्त हमला बोला है। पीएम ने कहा कि जो लोग आज कह रहे हैं कि सेना किसी की जागीर नहीं है, उसी परिवार के लोग नौसेना के वॉरशिप INS विराट को लेकर छुट्टियां मनाने गए थे। इसके साथ ही पीएम मोदी ने दिल्ली के सीएम का नाम लिए बगैर, उनकी सरकार को नाकामपंथी बताया। 

'पूर्व पीएम के ससुराल वाले भी छुट्टी पर' 
PM मोदी ने कहा, INS विराट उस समय समुद्र की रखवाली के लिए तैनात था। उनके पूरे कुनबे को लेकर आईएनएस विराट खास द्वीप पर रुका और 10 दिन तक रुका रहा। राजीव गांधी के साथ छुट्टी मनाने वालों में उनके ससुराल वाले भी थे। क्या विदेशी लोगों को वॉरशिप पर ले जाकर देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया था? नामदार परिवार की इस छुट्टी का किस्सा इतने पर खत्म नहीं होता, जिस द्वीप पर गांधी परिवार छुट्टी मनाने गया था, वहां रख-रखाव का काम भी नौसेना ने ही किया था। जब एक परिवार ही सर्वोच्च हो जाता है तो देश की सुरक्षा दांव पर लग जाती है।' 

टैक्सी की तरह किया INS का इस्तेमाल 
पीएम मोदी ने कहा, 'आज की पीढ़ी को कुछ सच्चाइयों से परिचित होना जरूरी है। कांग्रेस के नामदार मुझे गाली देने में कोई कमी नहीं रखते हैं। कांग्रेस के नामदार कह रहे हैं कि सेना किसी जागीर नहीं है। देश की रक्षा करने वाली सेना को अपनी जागीर कौन समझता है, यह मैं बताऊंगा। क्या आपने सुना है कि कोई अपने परिवार के साथ युद्धपोत से छुट्टियां मनाने जाए। यह हमारे ही देश में हुआ है।' पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नामदार परिवार ने INS विराट का अपनी टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया था। उसका अपमान किया था। यह बात तब की है, राजीव गांधी भारत के पीएम थे और 10 दिन की छुट्टियां मनाने निकले थे। 

सिख दंगों का किया जिक्र 
पीएम मोदी ने कहा, 'इन्हें अपने पूर्वजों के नाम पर वोट तो चाहिए, लेकिन जब उन्हीं के कारनामे खंगाले जाते हैं तो इन्हें मिर्च लग जाती है। अगर आप किसी के नाम पर वोट मांग रहे हैं, तो उनके कारनामों का हिसाब भी देना होगा। कांग्रेस आजकल अचानक न्याय की बात करने लगी है। कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि 1984 के सिख दंगों का हिसाब कौन देगा? कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि सिख दंगों से जुड़े लोगों को सीएम बनाना कौन सा न्याय है? कांग्रेस ने जो देश के साथ अन्याय किया, हम उसे कम करने की कोशिश कर रहे हैं। तीन दशक बाद 1984 के दंगों के आरोपी सलाखों के पीछे पहुंचे हैं। हमने बीते पांच वर्ष में सत्ता के दलालों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इन्होंने जनपथ को दलालों का पथ बना दिया था।' 

'नाकामपंथी' से केजरीवाल पर हमला 
पीएम मोदी अपने भाषण में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का नाम लिए बगैर आम आदमी पार्टी पर भी बड़ा हमला बोला। पीएम ने कहा, 'आजादी के बाद हमारे देश में चार राजनीतिक परंपरा रही हैं। पहला नामपंथी, जिनके लिए परिवार ही सबसे बड़ा है। दूसरा वामपंथी, जिनके लिए विदेशी विचार ही सबसे बड़ा रहा है। तीसरा दाम और दमन पंथी। चौथा है विकास पंथी, जिनके लिए देश का विकास ही सब कुछ है। दिल्ली के लोगों ने पांचवां मॉडल भी देखा है, जिसका नाम है नाकामपंथी। दिल्ली के विकास से जुड़े हर काम को ना कहते हैं और हर काम में नाकाम रहते हैं। इस नाकामपंथी मॉडल ने दिल्ली में अराजकता फैलाई और लोगों का भरोसा तोड़ा है। नाकामपंथी लोगों ने भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन को खत्म करने का काम किया है। इन्होंने देश में नई राजनीति के विश्वास को नाकाम किया है। ये लोग देश बदलने आए थे, लेकिन खुद ही बदल गए। ये लोग नई व्यवस्था देने आए थे, लेकिन खुद अव्यवस्था का नाम बन गए।' 

PM ने कहा, 'इन्होंने पहले सबको अनाप-शनाप कहा, फिर घुटनों के बल पर चलकर माफी मांग ली। देश की हर संस्था को गालियां दी। अपनी हर नाकामी का ठीकरा दूसरों पर फोड़ा। टुकड़े-टुकड़े गैंग के समर्थन में खड़े भी हो गए। पंजाब में देश के विरोधियों और खालिस्तान समर्थकों को भी ताकत दी। 

मोदी ने कहा कि गरीबों से जुड़ी योजनाओं के सामने ये नाकामपंथी दीवार बनकर खड़े हो गए हैं। दिल्ली में केंद्र सरकार और राज्य सरकार, दोनों के अस्पताल हैं। जो केंद्र के अस्पताल हैं, वहां आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीबों को हर साल पांच लाख रुपये का इलाज सुनिश्चित हुआ है, लेकिन यह योजना राज्य सरकार के अस्पतालों में नहीं मिल रही है। क्योंकि नाकामपंथी सरकार ने इस योजना को अपने यहां लागू नहीं किया। 

'चुनाव और IPL साथ नहीं करा पाई थी कांग्रेस' 
पीएम ने कहा, 'कांग्रेस सरकार 2009 और 2014 में आईपीएल और चुनाव तक एक साथ नहीं करा पाई थी। आज लोग लोकतंत्र का पर्व मना रहे हैं तो साथ ही लोग अपने शहरों में ही आईपीएल का भी मजा लिया। इस बीच चैत्र नवरात्र भी हुए, हनुमान जयंती भी हुई, ईस्टर का पर्व भी मनाया और अब रमजान भी मनाया जा रहा है। पहले जो नामुमकिन लगता था, अब वह मुमकिन नजर आ रहा था।

No comments:

Post a Comment